इस तरह मौनी अमावस्या के दिन करें मां लक्ष्मी को प्रसन्न, करें ये उपाय

0
54

आज माघ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या है। इसे मौनी अमावस्या भी कहा जाता है। यह माघ महीने में आती है जिसके चलते इसे माघी अमावस्या भी कहा जाता है। मान्यता है कि मौनी अमावस्या के दिन स्नान और दान का महत्व बहुत अधिक है। ऐसा करने से व्यक्ति को शुभ फलों की प्राप्ति होती है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, यही वो दिन था जब देवगँ संगम में निवास करते हैं। इस दिन गंगा स्नान का महत्व बहुत अधिक है। अगर इस दिन कोई व्यक्ति मौन रहकर व्रत करता है तो उसे मुनि पद की प्राप्ति होती है। अगर मौनी अमावस्या के दिन कुछ उपायों को करने से मां लक्ष्मी को प्रसन्न किया जा सकता है।

मौनी अमावस्या के दिन करें ये उपाय:

1. अगर इस दिन अगर चींटियों को शक्कर मिलाकर आटा खिलाया जाए तो व्यक्ति के पाप-कर्म कम हो जाते हैं। वहीं, उनके पुण्य-कर्म में बढ़ोत्तरी होती है।

2. इस दिन सुबह के समय स्नान करने के बाद आटे की गोलियां बनाएं फिर इन्हें मछलियों को खिलाए। यह बेहद शुभ होता है। अगर ऐसा किया जाए तो व्यक्ति के जीवन की परेशानियां खत्म हो जाती हैं।

3. इस दिन अगर स्नान के बाद चांटी से बने नाग या नागिन की पूजा की जाए तो व्यक्ति को कालसर्प दोष से मुक्ति मिल जाती है। इसके बाद सफेद पुष्प के साथ इसे बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें।

4. इस दिन शाम के समय अगर घर के ईशान कोण में गाय के घी का दीपक जलाया जाए तो मां लक्ष्मी बेहद प्रसन्नो हो जाती हैं।

मौनी अमावस्या 2021 मुहूर्त:

माघ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि का प्रारंभ 10 फरवरी को देर रात 01 बजकर 08 मिनट पर हो रहा है, जो 11 फरवरी को देर रात 12 बजकर 35 मिनट तक है। ऐसे में उदया तिथि 11 फरवरी को प्राप्त हो रही है, ऐसे में मौनी अमावस्या 11 फरवरी को होगी। 11 फरवरी को ही मौनी अमावस्या का स्नान, दान, व्रत, पूजा-पाठ आदि किया जाएगा।

डिसक्लेमर

‘इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। ‘

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here