कोतवाल, महिला एसओ, तीन दारोगा समेत सात पुलिस कर्मी के नामजद युवती ने मुकदमा दर्ज कराया

0
44

गोरखपुर। प्रशासनिक और पुलिस महकमे में भूचाल लाने वाले बस्‍ती में युवती से दुर्व्‍यवहार मामले में एडीजी जोन के निर्देश पर आईजी बस्ती ने युवती की तरफ से मुकदमा दर्ज कराया। मुकदमें में आरोपित दारोगा दीपक, उसके भाई दारोगा राजन सिंह, निलंबित कोतवाल रामपाल यादव, तत्कालीन महिला एसओ शीला यादव के साथ बारह पुलिस कर्मी, लेखपाल शालिनी और राजस्व निरीक्षक नामजद किए गए हैं।

यह है मामला

बस्ती कोतवाली थानाक्षेत्र के एक गांव में इश्कबाज दारोगा की करतूत से पूरा पुलिस महकमा शर्मसार हो उठा था। एकतरफा प्यार में दारोगा वर्दी की आड़ में उत्पीड़न की पराकाष्ठा पर पहुंचा। इस खेल में उसने विभाग की छवि को दागदार तो बनाया ही चौदह पुलिस कर्मियों को अपराधी बना दिया। एडीजी जोन के निर्देश पर आईजी बस्ती अनिल कुमार राय ने युवती की ओर से आनन फानन में तहरीर ली और कोतवाली थाने में मुकदमा दर्ज करा दिया। निलंबित कोतवाल के साथ चौदह पुलिस और राजस्व कर्मी नामजद आरोपी बना गए हैं। युवती का आरोप है कि दारोगो को उसने ‘ना’ की तो उसके स्‍वजनों पर मुकदमे लाद दिए गए और उन्‍हें तरह तरह से परेशान किया गया।

सीएम तक पहुंचा तो मचा हड़कंप

यह मामला मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ तक पहुंचा तो प्रशासनिक महकमा हरकत में आया। मुख्य आरोपित दरोगा दीपक सिंह और जांच के दायरे में आए पुलिस और राजस्व कर्मियों पर कार्रवाई शुरू हो गई है। एसपी हेमराज मीणा को हटा दिया गया। कोतवाल राम पाल यादव, दारोगा दीपक सिंह को निलंबित किए जाने के बाद तत्कालीन सीओ सिटी गिरिश कुमार सिंह को भी निलंबित कर दिया गया। सिंह वर्तमान में इसी पद पर कानपुर में तैनात हैं।

इन धाराओं में दर्ज हुआ मुकदमा

युवती की दी गई तहरीर पर दरोगा दीपक सिंह, उसके भाई दरोगा राजन सिंह,निलंबित कोतवाल रामपाल यादव,पूर्व महिला थाना प्रभारी शीला यादव, दरोगा अभिषेक सिंह,कानूनगो सतीश,हल्का लेखपाल शालिनी सिंह, आरक्षी पवन कुमार कुशवाहा, आलोक कुमार, संजय कुमार, महिला आरक्षी दीक्षा यादव, नीलम सिंह व दो-तीन अज्ञात पुलिस कर्मियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 323, 324, 211, 342, 504, 506, 354, 354 क, ख, ग, घ, 452, 120बी और 67 आईटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

एक्‍शन में आए एसपी

कार्यभार संभालते ही एक्शन में एसपी नवागत पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव एक्शन में आ गए हैं। युवती प्रकरण की पूरी जानकारी लेने के बाद वह उच्चाधिकारियों से भी जाकर मिले। बताया कि मुकदमे की जांच सीओ सिटी आलोक प्रसाद को सौंपी गई है। मुकदमे की जांच में जो तथ्य सामने आएंगे उस आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

हिरासत से दारोगा फरार, फिर गिरफ्तार

उधर, युवती उत्पीड़न के मामले में मुख्यमंत्री की सख्ती के बाद पुलिस ने कार्रवाई तेज कर दी है। मुख्य आरोपी दरोगा दीपक सिंह दोपहर में कोतवाली थाने से फरार हो गया। देर रात पुलिस ने उसे गोरखपुर में पकड़ लिया। इसे बस्ती लाया गया। रविवार को दोपहर कोतवाली थाने से हिरासत में लिए गए दारोगा चकमा देकर भाग गया था। यह जानकारी जब पुलिसकर्मियों को लगी तो हड़कंप मच गया। जिलेभर की पुलिस उसे खोजने में लगाई गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here