गणेश चतुर्थी आज, पढ़ें 17 मार्च 2021 का पंचांग, जानें मुहूर्त, राहुकाल एवं दिशाशूल

0
125

हिन्दी पंचांग के अनुसार, आज फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि है। आज 17 मार्च 2021 और दिन बुधवार है। आज गणेश चतुर्थी है। आज रवि योग बन रहा है। आज भद्रा भी सुबह से लेकर रात तक रहेगी। आज गणेश चतुर्थी के दिन आपको विघ्नहर्ता श्री गणेश जी की विधि विधान से पूजा करनी चाहिए। पूजा में उनको 21 दूर्वा और मोदक अर्पित करना चाहिए। बुधवार का दिन वैसे भी गणेश जी की पूजा के लिए समर्पित होता है, ऐसे में आज का दिन उनकी पूजा के लिए बहुत उत्तम है। आज के पंचांग में राहुकाल, शुभ मुहूर्त, दिशाशूल के अलावा सूर्योदय, चंद्रोदय, सूर्यास्त, चंद्रास्त आदि के बारे में भी जानकारी दी जा रही है।

आज का पंचांग

दिन: बुधवार, फाल्गुन मास, शुक्ल पक्ष, चतुर्थी तिथि।

आज का दिशाशूल: उत्तर।

आज का राहुकाल: दोपहर 12:00 बजे से 01:30 बजे तक।

आज की भद्रा: प्रात: 10:12 बजे से रात्रि के 11:29 बजे तक।

आज का पर्व एवं त्योहार: श्री गणेश चतुर्थी व्रत।

विक्रम संवत 2077 शके 1942 उत्तरायन, दक्षिणगोल, वसंत ऋतु फाल्गुन मास शुक्ल पक्ष की चतुर्थी 23 घंटे 29 मिनट तक, तत्पश्चात् पंचमी अश्वनी नक्षत्र 07 घंटे 31 मिनट तक, तत्पश्चात् भरणी नक्षत्र ऐन्द्र योग 08 घंटे 58 मिनट तक, तत्पश्चात् वैधृति योग मेष में चंद्रमा।

सूर्योदय और सूर्यास्त

आज के दिन सूर्योदय प्रात:काल 06 बजकर 29 मिनट पर होगा, वहीं सूर्यास्त शाम को ठीक 06 बजकर 31 मिनट पर होगा।

चंद्रोदय और चंद्रास्त

आज का चंद्रोदय सुबह 08 बजकर 43 मिनट पर होगा। चंद्र का अस्त आज रात को 10 बजकर 02 मिनट पर होगा।

आज का शुभ समय

अभिजित मुहूर्त: आज ऐसा कोई मुहूर्त नहीं है।

अमृत काल: कल 18 मार्च को प्रात:काल 05 बजकर 10 मिनट से सुबह 06 बजकर 58 मिनट तक।

विजय मुहूर्त: दोपहर 02 बजकर 30 मिनट से दोपहर 03 बजकर 18 मिनट तक।

रवि योग: आज सुबह 06 बजकर 29 मिनट से सुबह 07 बजकर 31 मिनट तक। फिर 18 मार्च को तड़के 02 बजकर 37 मिनट से प्रात: 06 बजकर 27 मिनट तक।

आज फाल्गुन शुक्ल चतुर्थी है। आज बुधवार के दिन आपको गणेश चालीसा, गणेश स्तुति और गणेश मन्त्रों का जाप करना चाहिए। उनकी कृपा से आपको सभी सुख और सुविधाएं प्राप्त होंगी। कष्ट और बाधाएं खत्म हो जाएंगी। आज आप कोई नया कार्य करना चाहते हैं तो शुभ मुहूर्त का ध्यान रखें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here