बिहार क्रिकेट लीग में खेलने की वजह से खिलाड़ियों को सजा दे सकती है BCCI

0
87

नई दिल्ली। विवादित बिहार क्रिकेट एसोसिएशन और इस संघ में पंजीकृत प्रथम श्रेणी और लिस्ट ए खिलाड़ियों की परेशानी बढ़ सकती है, क्योंकि बिहार क्रिकेट संघ ने बिहार क्रिकेट लीग (BCL) का आयोजन किया था, जिसे भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआइ ने अनुमति नहीं दी थी। ऐसे में संघ और खिलाड़ियों को मूल निकाय के आदेशों को उल्लंघन करने के लिए BCCI से कड़े प्रतिबंधों का सामना करने की संभावना है। बीसीएल पटना में 20 से 26 मार्च तक आयोजित किया गया था।

इस टूर्नामेंट में पांच फ्रेंचाइजी अंगिका एवेंजर्स, भागलपुर बुल्स, धारभंगा डायमंड्स, गया ग्लेडिएटर्स और पटना पायलट्स थी, जिसे यूरोपोर्ट चैनल पर प्रसारित किया गया था। दरभंगा डायमंड्स टीम उर्जा स्टेडियम में खेले गए फाइनल में चैंपियन बनकर उभरी। बीसीसीआइ ने 23 मार्च को एक पत्र (जो पीटीआइ के पास है) को बीसीए को यह कहते हुए भेजा था कि वे बिना किसी अनिश्चितता के शब्दों में कहें कि उनकी ‘टी 20 लीग’ को मंजूरी नहीं मिली है और इस टी20 लीग को रोक दिया जाना चाहिए।

हालांकि, बीसीए अधिकारियों ने बीसीसीआइ के पत्र की ओर ध्यान नहीं दिया और शेष खेलों के साथ आगे बढ़े और टूर्नामेंट को खत्म किया। बोर्ड के कार्यकारी सीईओ हेमांग अमीन ने राज्य निकाय को लिखे पत्र में कहा, “हमने आपके प्रश्नों की प्रतिक्रियाओं की समीक्षा की है और सावधानीपूर्वक विचार करने पर बीसीसीआइ ने अपने टी20 घरेलू लीग क्रिकेट टूर्नामेंट (यानी बीसीएल) के संचालन के लिए बिहार क्रिकेट संघ (बीसीए) को अपनी मंजूरी नहीं देने का फैसला किया है, क्योंकि यह बीसीसीआइ द्वारा जारी एडवाइजरी और दिशानिर्देशों का पूरा तरह से अनुपालन नहीं करता है।”

बीसीसीआइ ने अपने संचार में स्पष्ट रूप से बीसीए को बीसीएल को रद करने या बोर्ड के संविधान के अनुरूप प्रतिबंधों का सामना करने के लिए तैयार होने के लिए कहा था। इसमें आगे कहा गया, “हम बिहार राज्य में क्रिकेट संस्कृति के निर्माण के लिए बीसीए के प्रयास और निरंतर प्रयास की सराहना करते हैं और आपको विश्वास दिलाते हैं कि बीसीसीआइ बीसीए का समर्थन कानून के दायरे में करेगा। तदनुसार, बीसीसीआइ आपको टी20 घरेलू लीग क्रिकेट टूर्नामेंट (यानी, बीसीएल) को रद करने का निर्देश देता है।”

पत्र में आगे कहा गया था, “यदि बीसीसीआइ के नियमों और विनियमों के अनुसार बीसीए चल रहे टी20 टूर्नामेंट (यानी, बीसीएल) को रद नहीं करता है तो टूर्नामेंट को ‘अस्वीकृत टूर्नामेंट’ माना जाएगा और बीसीसीआइ के नियमों और विनियमों के अनुसार बीसीए प्रतिबंधों के लिए उत्तरदायी होगा।” हाल के वर्षों में, अपनी भ्रष्टाचार रोधी इकाई (एसीयू) की सिफारिश पर बीसीसीआइ ने संदिग्ध स्वामित्व, असामान्य सट्टेबाजी पैटर्न के कई मामलों के सामने आने के बाद राज्य निकाय द्वारा संचालित टी20 लीग फिलहाल बंद करने का फैसला किया है।

आइपीएल स्पॉट फिक्सिंग को उजागर करने वाले आदित्य वर्मा ने पीटीआइ को बताया, “बिहार क्रिकेट संघ के अधिकारियों ने जो किया है, उसने युवा खिलाड़ियों के करियर को ताक पर रखा है। क्या होगा अगर BCCI अब संविधान के अनुच्छेद 31 के अनुसार खिलाड़ियों पर प्रतिबंध लगा दे? यदि BCCI वार्षिक अनुदान रोक देता है तो क्या होगा? क्या राकेश तिवारी जिम्मेदारी लेंगे?क्योंकि बीसीसीआइ ने बीसीए को बीसीएल का आयोजन करने की अनुमति नहीं दी थी।”

बीसीसीआइ द्वारा अस्वीकृत टूर्नामेंट में ऐसा कोई क्रिकेटर नहीं खेल सकता है, जिसका संबंध बीसीसीआइ से हो। खेलना ही नहीं, बल्कि अंपायरिंग से लेकर स्कोरर और अन्य किसी भी तरह से कोई भी शख्स ऐसे टूर्नामेंट में नहीं भाग ले सकता है, जिसकी अनुमति बीसीसीआइ ने नहीं दी हो। इस स्थिति में बीसीसीआइ की शीर्ष परिषद उचित कार्रवाई करेगी जिसमें निलंबन वित्तीय लाभ को रोकने जैसी कार्रवाई शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here