स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने लाभार्थियों को दी यह सलाह, भारत में दुनिया में सबसे तेज 24 दिनों में 60 लाख लोगों का टीकाकरण

0
74

नई दिल्ली। देश में सोमवार की शाम तक कुल 60 लाख से अधिक लोगों को कोरोना रोधी टीका लगाया जा चुका है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि भारत ने दुनिया में सबसे तेजी के साथ सिर्फ 24 दिनों में यह सफलता हासिल की है। अमेरिका में 60 लाख लोगों के टीका लगाने में 26 दिन और ब्रिटेन में 46 दिन लगे थे। वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने सोमवार को कहा कि कोरोना का टीका उपलब्ध होने का मतलब यह नहीं है कि किसी को लापरवाह हो जाना चाहिए।

भविष्य में भी एहतियात जरूरी

हर्षवर्धन ने कहा कि निवारक उपायों का अभी और निकट भविष्य में भी पालन किया जाना जरूरी होगा। स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि हर्षवर्धन ने विभिन्न परिवहन यूनियनों के बीच मास्क और साबुन के वितरण संबंधी कार्यक्रम की अध्यक्षता की। हर्षवर्धन भारतीय रेड क्रॉस सोसायटी (आइआरसीएस) के अध्यक्ष भी हैं। उन्होंने कहा, मैं कोरोना गतिविधियों के तहत मास्क वितरित करने की पहल का हिस्सा बनकर बहुत खुश हूं।

इन जगहों पर संक्रमण का खतरा ज्‍यादा

बयान में उनके हवाले से कहा गया है, दिल्ली में ही हमने रेलवे स्टेशनों, सब्जी मंडियों और अन्य स्थानों पर संक्रमण की अधिक आशंका पर विचार करते हुए मास्क वितरित किए हैं। हर्षवर्धन ने कहा कि भारतीय रेड क्रॉस सोसायटी के प्रयास सराहनीय हैं। उन्होंने कहा कि टीका आने के बाद भी कोरोना से बचने के लिए एहतियाती उपायों का पालन किया जाना चाहिए। सरकार ने दुनिया में सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान पहले ही शुरू कर दिया है।

मास्क होगा मददगार

हर्षवर्धन ने कहा कि वाहनों के चालक और उनके सहायक पूरे देश में यात्रा करते हैं और वे संक्रमण की दृष्टि से संवेदनशील हैं। आइआरसीएस द्वारा वितरित किए जा रहे मास्क उनकी बहुत मदद करेंगे। कोरोना की स्थिति पर हर्षवर्धन ने कहा कि दुनिया में भारत में स्वस्थ होने की दर सबसे अधिक है। संक्रमण के मामले भी कम हो रहे हैं। जनवरी 2020 में (कोरोना वायरस की जांच के लिए) एक प्रयोगशाला थी और अब यह संख्या 2,373 है।

60,35,660 लोगों को लगा टीका

स्वास्थ्य मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव मनोहर अगनानी ने बताया कि सोमवार की शाम तक 1,24,774 सत्रों के जरिये कुल 60,35,660 लाभार्थियों को कोरोना रोधी वैक्सीन दी जा चुकी है। इनमें 54,12,270 स्वास्थ्यकर्मी और 6,23,390 फ्रंटलाइन वर्कर्स शामिल हैं। फ्रंटलाइन वर्कर्स का टीकाकरण दो फरवरी से शुरू हुआ था। अगनानी ने कहा कि 11 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में को-विन प्लेटफार्म पर पंजीकृत स्वास्थ्यकर्मियों में से 65 फीसद को वैक्सीन लगाई जा चुकी है।

राज्‍यों में टीकाकरण का हाल

इन राज्यों में बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, ओडिशा, त्रिपुरा, मिजोरम, अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह और केरल शामिल हैं। उन्होंने बताया कि दिल्ली, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, पंजाब, दादर एवं नगर हवेली, चंडीगढ़, तमिलनाडु, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर और पुडुचेरी में 40 फीसद से भी कम पंजीकृत स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाया गया है।

एक दिन में 2,23,298 लोगों का टीकाकरण

टीकाकरण अभियान के 24वें दिन सोमवार को 8,257 सत्रों के जरिये शाम छह बजे तक 2,23,298 लाभार्थियों को टीका लगाया गया। इनमें से 75.12 फीसद लाभार्थी 10 राज्यों से थे। मंत्रालय ने बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान टीकाकरण के बाद केरल में एक व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हालांकि, अब तक किसी की भी व्‍यक्ति की मौत का संबंध टीकाकरण से नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here