आधा किलो सोना और 15 किलो चांदी लेकर फरार, लखनऊ के नाथ ज्‍वैलर्स में बदमाशों का धावा

0
134

लखनऊ। आशियाना के सेक्टर एच एलडीए कॉलोनी स्थित नाथ ज्वैलर्स के यहां असलहों से लैस बदमाशों ने सोमवार को धावा बोल दिया। बदमाश लाखों की कीमत के सोना चांदी पार कर ले गए। बदमाशों ने पीडि़त व्यापारी दीपक रस्तोगी और उनके बेटे अर्णव को बंधक भी बना लिया था। विरोध पर दीपक पर असलहे के बट से हमला कर दिया। इसके बाद तिजारी में रखा 15 किलो चांदी, आधा किलो सोना व अन्य जवाहरात लूट ले गए। दिनदहाड़े हुई यह दुस्साहसिक वारदात सर्राफ के यहां लगे सीसी कैमरे में कैद हो गई। दीपक रस्तोगी के मुताबिक सोमवार को दिन में करीब साढ़े तीन बजे तीन लोग दुकान के बाहर पहुंचे थे।

इसमें एक ने हेलमेट लगा रखी थी कि जबकि दो मास्क लगाए थे। एक युवक दुकान में दाखिल हुआ, जबकि दो बाहर खड़े रहे। दुकान में घुसने वाले युवक ने दीपक से सोने की चेन दिखाने के लिए कहा। इसपर वह युवक को ग्राहक समझकर जेवर दिखाने लगे। इसी बीच बाहर खड़े दोनों युवक भी भीतर दाखिल हो गए। दोनों के हाथ में असलहे थे। बदमाशों ने दीपक को चारों तरफ से घेर लिया। दीपक के विरोध पर असलहे के बट से उनके सिर पर हमला बोल दिया। हमले में दीपक लहूलुहान हो गए। दीपक अभी बदमाशों से संघर्ष कर ही रहे थे कि स्कूल से उनका बेटा अर्णव वहां पहुंच गया। बदमाशों ने अर्णव को बंधक बनाकर उसके सिर पर असलहा तान दिया। इसके बाद तिजोरी की चाभी मांगने लगे। बेटे की जान पर खतरा देख दीपक ने बदमाशों को तिजोरी की चाभी सौंप दी। इसके बाद बदमाशों ने बैग में जवाहरात भरे और जान से मारने की धमकी देते हुए भाग निकले। डीसीपी पूर्वी संजीव सुमन के मुताबिक दीपक एम 3/649 में रहते हैं, जिसके बाहरी हिस्से में उनकी ज्वैलरी शॉप की दुकान है।

थोड़ी दूर पर खड़ी की थी गाड़ी

छानबीन में सामने आया है कि बदमाशों ने ज्वैलरी शॉप से कुछ दूरी पर गाड़ी खड़ी की थी। बदमाश लूटपाट के बाद पैदल ही भाग निकले। हालांकि वह वहां से कहां गए, इसके बारे में पुलिस छानबीन कर रही है। एसीपी कैंट का कहना है कि सर्राफ ने लूट कितने रुपये की हुई है, इसके बारे में हिसाब करने के बाद पूरी जानकारी देने की बात कही है। हालांकि लूटे गए जवाहरात की कीमत 35 से 40 लाख रुपये के करीब बताई जा रही है।

20 मिनट तक दुकान में मौजूद थे बदमाश

छानबीन में पता चला है कि बदमाश करीब 20 मिनट तक दुकान के भीतर सर्राफ को बंधक बनाए रहे। बदमाशों के भागने के बाद दीपक ने उनका पीछा भी किया, लेकिन असफल रहे। शोरगुल सुनकर दीपक की पत्नी निधि जब दुकान में पहुंचीं तो वहां सारा सामान बिखरा था। इसके बाद पुलिस को वारदात की जानकारी हुई। डीसीपी पूर्वी व एसीपी कैंट समेत अन्य अधिकारियों ने छानबीन शुरू की। एसीपी कैंट डॉ. बीनू सिंह के मुताबिक सीसी फुटेज के जरिए बदमाशों की पहचान की कोशिश की जा रही है। पुलिस की छह टीमें लगाई गई हैं। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि बदमाशों ने रेकी के बाद घटना को अंजाम दिया है। जल्द ही वारदात का अनावरण कर दिया जाएगा। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here