उन्नाव कांड का यूपी पुलिस ने किया राजफाश, दो आरोपित गिरफ्तार; एकतरफा प्रेम में किशोरियों की हत्या

0
83

उन्नाव। उत्तर प्रदेश में उन्नाव के असोहा क्षेत्र में बुआ-भतीजी की हत्याकांड और एक किशोरी के मरणासन्न मिलने का मामला 72 घंटे बाद शुक्रवार को सुलझ गया। आइजी लखनऊ रेंज लक्ष्मी सिंह ने शुक्रवार शाम सात बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दावा किया कि दोनों किशोरियों की हत्या एकतरफा प्यार में हुई। घटना करने वाले दो आरोपितों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है, दोनों पड़ोसी गांव पाठकपुर के रहने वाले हैं। दोनों आरोपित अनुसूचित समुदाय के हैं। इनमें से एक विनय है, जबकि दूसरा आरोपित नाबालिग है। तीनों किशोरियों को गेहूं में रखने वाली दवा पिलाई गई थी, इससे दो की मौत हो गई और तीसरी अचेत हो गई। उसका इलाज कानपुर के रीजेंसी अस्पताल में चल रहा है और हालत में सुधार है।

आइजी रेंज लक्ष्मी सिंह ने बताया कि युवक तीन किशोरियों में से जिसे चाहता था, उसकी झिड़की के बाद मारने की साजिश रची, वह बच गई और अस्पताल में भर्ती है। इससे पहले शुक्रवार सुबह दोनों किशोरियों के शव घटनास्थल से ही सौ मीटर दूर स्वजन ने दफनाकर अंतिम संस्कार किया। इस दौरान कड़ी सुरक्षा व्यवस्था रही। गांव में प्रवेश नहीं मिलने पर सपा के कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया। पूर्व सांसद सावित्री बाई फुले से भी पुलिस की तीखी नोकझोंक हुई। पोस्टमार्टम में मारपीट को बल देते साक्ष्य सामने नहीं आए हैं, न ही हाथ-पैर बांधने या गला घोटने के। हत्यारोपित युवक ने पानी में गेहूं में रखने वाला जहरीला पदार्थ मिलाकर पिलाने की बात कही है। इधर, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिवंगत किशोरियों के स्वजन को पांच-पांच लाख और अस्पताल में भर्ती किशोरी के परिवार को दो लाख रुपये देने का आदेश जारी किया है।

असोहा थाना क्षेत्र के एक गांव में बुधवार को खेत में तीन किशोरियां अचेत मिली थीं। डॉक्टरों ने इनमें से दो को मृत घोषित कर दिया था। शुक्रवार शाम आइजी लखनऊ लक्ष्मी सिंह ने बताया कि आरोपित युवक पड़ोसी गांव के विनय और एक नाबालिग ने पूछताछ में हत्या की बात कबूल की है। विनय ने बताया कि उसके खेत किशोरियों के खेत के पास हैं। लॉकडाउन के दौरान वह एक किशोरी से प्रेम करने लगा। उसने मोबाइल नंबर मांगा था, लेकिन किशोरी ने मना कर दिया था। इससे वह आक्रोशित था। बुधवार को वह किशोरी की हत्या के इरादे से अपने खेत पर गया था। वहां तीनों किशोरियां अपने खेत में चारा काट रही थीं। वह चिप्स और पानी लेकर अपने एक दोस्त के साथ खेत में पहुंचा। किशोरियां भी चिप्स लेकर पहुंची थींं। पहले सबने मिलकर चिप्स खाए।

उसके बाद विनय द्वारा लाया पानी पीया। पानी में जहर मिलाया गया था। विनय वह पानी सिर्फ एक किशोरी को पिलाना चाहता था जिससे वह प्रेम करता था, लेकिन तीनों किशोरियों ने जबरन पानी पी लिया। इससे दो किशोरियों की मौत हो गई और तीसरी अचेत हो गई। उसने घर में रखा कीटनाशक पानी में मिलाया था। पोस्टमार्टम में जहर की आशंका जताई गई थी। इसके चलते बिसरा सुरक्षित कर लिया गया था। आइजी ने गुरुवार को ही दावा किया था कि दोनों किशोरियों की मौत एक ही प्रकार का जहर खाने से मौत हुई। जांच में सामने आया है कि तीनों लड़कियों ने गांव की ही एक दुकान से चिप्स के कुछ पैकेट खरीदे थे। शव बरामदगी स्थल से 25 मीटर दूर चिप्स के खाली पैकेट के साथ-साथ तीन पैकेट नमकीन मिली है। वहीं पर पान की ताजा पीक और एक सिगरेट भी मिली है। इससे कुछ दूरी पर पुलिस को कीटनाशक का खाली पड़ा नया रैपर भी मिला है।

उन्नाव जिले के असोहा थाने क्षेत्र एक गांव में बुधवार रात तीन किशोरियां गांव के बाहर सरसाें के खेत में अचेत अवस्था में पड़ी मिली थीं। इनमें से दो किशोरियों की मृत्यु हो चुकी है, जबकि तीसरी कानपुर के रीजेंसी अस्पताल में जिंदगी और मौत से जूझ रही है। मृतक किशोरियों के पोस्टमार्टम रिपोर्ट पोस्टमार्टम में जहर की आशंका जताई गई थी। इसके चलते बिसरा सुरक्षित कर लिया गया था। आइजी लखनऊ के मुताबिक दोनों की एक ही प्रकार का जहर खाने से मौत हुई। जांच में सामने आया है कि तीनों लड़िकयों ने गांव की ही एक दुकान से कुछ चिप्स के पैकेट खरीदे थे। शव बरामदगी स्थल से 25 मीटर दूर चिप्स के खाली पैकेट के साथ-साथ नटखट कुरकुरे के दो पैकेट व नमकीन का एक पैकेट मिला है। वहीं पर पान की ताजा पीक और एक सिगरेट भी मिली है। सबसे खास बात इससे कुछ दूरी पर ही पुलिस को एक कीटनाशक का खाली पड़ा नया रैपर भी बरामद हुआ है।

घटनास्थल के पास ही दफन किए गए किशोरियों के शव : बुआ-भतीजी के अंतिम संस्कार में प्रशासन को सुबह साढ़े नौ बजे सफलता मिली। घटनास्थल से सौ मीटर दूरी पर ही दोनों के शव दफनाए गए। इस दौरान कड़ी सुरक्षा व्यवस्था थी। माहौल न बिगड़े, इसके लिए पहले से पूरी तैयारी थी। मंडलायुक्त लखनऊ रंजन कुमार से लेकर एडीजी, आइजी, डीएम, एसपी आदि भारी पुलिस फोर्स के साथ गांव में डटे रहे। गांव के चारों तरफ पुलिस का पहरा रहा।

खेत से भागते देखे गए थे आरोपित : आइजी ने बताया कि मुखबिर तंत्र से पुलिस को सूचना मिली थी कि दोनों आरोपित खेत से अपने गांव की ओर भागते देखे गए थे। दोनों हिरासत में हुई पूछताछ में टूट गए और सब बता दिया। एसपी आनंद कुलकर्णी ने बताया कि विनय उर्फ लंबू के मोबाइल की डिटेल से भी उसकी लोकेशन घटना के दिन खेत पर ही होने की पता चली।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here