हैदराबाद में मजदूर की बेटी ने स्कूल की बकाया फीस जमा नहीं होने पर की खुदकुशी

0
82

हैदराबाद । मजदूर माता-पिता द्वारा स्कूल की बकाये फीस को नहीं भर पाने के कारण हैदराबाद में एक निजी स्कूल की 10वीं कक्षा की छात्रा ने खुदकुशी कर ली। स्कूल स्टाफ 15 साल की यशस्विनी पर कथित तौर पर 3,000 रुपये का भुगतान करने का दबाव बना रहा था।

माता-पिता ने कहा कि वह उदास थी क्योंकि वह अपनी पढ़ाई जारी रखने में असमर्थ थी। उसने स्कूल जाना बंद कर दिया था।

उसके माता-पिता ने पुलिस को बताया कि जब वे गुरुवार शाम को काम से घर लौटे, तो उन्होंने नेरेदमेत के काकतियानगर में घर को अंदर से बंद पाया। चूंकि बार-बार खटखटाने पर कोई जवाब नहीं मिला, इसलिए उन्होंने दरवाजे की कुंडी तोड़ दी और बेटी को रस्सी से लटका हुआ पाया।

मृत छात्रा के परिवार की शिकायत पर राचकोंडा पुलिस कमिश्नरेट के तहत नेरेदमेत पुलिस स्टेशन ने संदिग्ध परिस्थितियों में मौत होने का मामला दर्ज किया और जांच शुरू कर दी। पुलिस ने कहा कि कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है।

नेरेदमेत के इंस्पेक्टर ए. नरसिम्हा स्वामी ने कहा, “वित्तीय समस्याओं के कारण माता-पिता फीस भुगतान नहीं कर सके। वह जाहिर तौर पर उदास थी और इतना बड़ा कदम उठा लिया।” पुलिस अधिकारी ने हालांकि कहा कि लड़की के माता-पिता ने स्कूल द्वारा उत्पीड़न की शिकायत नहीं की है।

लड़की के माता-पिता ने कहा कि उन्होंने लॉकडाउन के दौरान कमाई कम होने के बावजूद फीस के रूप में 15,000 रुपये का भुगतान किया था और बाद में बकाया भुगतान करने का वादा किया था। उन्होंने आरोप लगाया कि उनकी बेटी ने अपमान का सामना करने के कारण स्कूल जाना बंद कर दिया था।

कोविड महामारी के कारण लगभग 10 महीने के बाद हैदराबाद और तेलंगाना के बाकी हिस्सों में नौवीं कक्षा और उससे ऊपर के लिए स्कूल 1 फरवरी को फिर से खुल गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here