23 साल से बिस्तर पर पड़े हारिस को मिला एनजीओ का सहारा

0
26

कोझिकोड: कोरोना काल में कई लोग बिना किसी स्वार्थ के दूसरों की मदद करते नजर आए। ऐसा ही एक मामला केरल के कोझिकोड से आया है, जहां एक शख्स पिछले 23 साल से बिस्तर पर लेटा है। 23 साल पहले पेरम्बरा के रहने वाले हारिस एक दुर्घटना का शिकार हो गए थे, जिसके बाद से वो कभी चल नहीं पाए।
अपनी जीविका को देखते हुए हारिस ने छाता बनाने का काम शुरू किया लेकिन कोरोना महामारी की वजह से लगे लॉकडाउन के कारण भी वो काम ठीक तरह से नहीं चल रहा था। जिसे देखते हुए एक एनजीओ सामने आया और हारिस की मदद करने लगा। व्हाट्सऐप के जरिए एनजीओ हारिस के बनाए हुए छाते बेच रहा है।
हारिस का कहना है कि 23 साल पहले मेरे साथ एक दुर्घटना घटी थी, उसके बाद मैंने छाता बनाना सीखा। पिछले 10 साल से मैं छाता बना रहा हूं और उसे बेच रहा हूं। हालांकि कोरोना काल के दौरान छातों की बिक्री पर रोक लग गई थी लेकिन अब इसे व्हाट्सऐप ग्रुप के जरिए बेचा जा रहा है। हारिस का कहना है कि न्यू लाइफ चैरिटेबल ट्रस्ट ने मेरी बहुत मदद की है। हारिस ने कहा कि यही एकमात्र मेरी आय का स्रोत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here