UP: एक हफ्ते तक जिले में कोई कोरोना पीड़ित नहीं निकला तो किया जायेगा पुरस्कृत:योगी

0
35

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को निर्देश दिए कि जिन जिलों में एक हफ्ते तक कोरोना का कोई रोगी नहीं मिलेगा, उन्हें पुरस्कृत किया जाएगा। सबसे पहले कोरोना मुक्त होने वाले और शत प्रतिशत टीकाकरण कराने वाले जिलों को भी पुरस्कृत किया जाएगा।मुख्यमंत्री ने शनिवार को अपने सरकारी आवास पर एक जुलाई से शुरू होने वाले संचारी रोग नियंत्रण अभियान की तैयारियों की समीक्षा की। वर्चुअल बैठक में उन्होंने सभी जिलों के डीएम व सीएमओ को निर्देश दिए कि लापरवाही के कारण दोबारा संक्रमण न बढ़े, इसे लेकर पर्याप्त सर्तकता बरती जाए। योगी ने कहा कि जिलों के बीच कोरोना संक्रमण घटाने को लेकर प्रतिस्पर्धा होने का अच्छा परिणाम सामने आएगा। उन्होंने निर्देश दिए कि सोमवार से टीकाकरण अभियान की गति को और बढ़ाया जाए। अभी चार लाख टीके प्रतिदिन लगाए जा रहे हैं। उन्होंने सोमवार से इसकी संख्या बढ़ाकर छह लाख करने को कहा। मुख्यमंत्री ने बताया कि एक जुलाई से 10 लाख लोगों को प्रतिदिन वैक्सीन लगाई जाएगी। ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाने के लिए उन्होंने जागरूकता फैलाने को कहा।योगी ने कोरोना की संभावित तीसरी लहर से बच्चों को बचाने की तैयारियों की भी जानकारी ली। उन्होंने कहा कि 102 एंबुलेंस सेवा हर हाल में बच्चों व महिलाओं को जरूरत पडऩे पर तत्काल उपलब्ध होनी चाहिए। 25 जून से डोर टू डोर सर्वे के माध्यम से बच्चों की स्क्रीनि‍ंग की जाएगी। बच्चों के लिए 50 लाख मेडिसिन किट जिलों को भेजी गई हैं और 26 जून से इसका वितरण शुरू होगा। मुख्यमंत्री ने घरों में इसके वितरण के पुख्ता इंतजाम करने, पीडियाट्रिक आइसीयू (पीकू) के बेड सभी जिलों में पर्याप्त संख्या में रखने, जेई व एईएस सहित संचारी रोगों के नियंत्रण के लिए सभी विभागों के बीच आपसी समन्वय बनाकर काम करने और साफ-सफाई युद्ध स्तर पर करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग आनलाइन क्लास के माध्यम से विद्यार्थियों को जेई व एईएस से बचाव के संबंध में जानकारी दे।मुख्यमंत्री ने संचारी रोग से ग्रस्त मरीजों का इलाज इंसेफेलाइटिस ट्रीटमेंट सेंटर, मेडिकल कालेजों, जिला अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) पर बेहतर ढंग से करने और बेहतर ड्रेनेज व साफ-सफाई के लिए राजमिस्त्री व प्लंबर आदि को राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आइटीआइ) के माध्यम से प्रशिक्षित करने को कहा। बैठक में उप मुख्यमंत्री डा.दिनेश शर्मा, चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना व स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप ङ्क्षसह आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here